There was an error in this gadget

Monday, July 9, 2012

ठोकर

समझने - समझाने से  जो कुछ  होता  ग़र ,                                                 

                                        तो इन्सान  गलतियाँ ही न करता.....

ये तो ठोकरें हैं  पग - पग  पर ,                                                 

                                           जो चलना  सिखातीं  हैं......




No comments:

Post a Comment